News Flash: समाचार फ़्लैश:
  • लड़कियों को अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए समान अवसर उपलब्ध होने चाहिए : राज्यपाल
  • मुख्यमंत्री ने किया शोक व्यक्त
  • मुख्यमंत्री ने इलेक्ट्रिक बस को दिखाई हरी झंडी
  • मुख्यमंत्री ने किया सात नागरिक केंद्रित सेवाओं का शुभारंभ
  • भविष्य की पीढ़ियों के लिए पानी और उपजाऊ भूमि बचाओः आचार्य देवव्रत
  • केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री ने की मुख्यमंत्री से भेंट
View Allसभी देखें
 Latest News
 नवीनतम समाचार
  • केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री ने की मुख्यमंत्री से भेंट
    केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री जनरल वी.के. सिंह ने आज यहां मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर से भेंट की।
    यह एक शिष्टाचार भेंट थी।
    शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, शहरी विकास मंत्री सरवीन चौधरी, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. राजीव सैजल भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
    .0.
    Read More
  • भविष्य की पीढ़ियों के लिए पानी और उपजाऊ भूमि बचाओः आचार्य देवव्रत

    राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने बड़े पैमाने पर प्राकृतिक खेती को अपनाने पर बल देते हुए कहा कि जल, वायु और खाद्यानों में रसायनों का अत्यधिक उपयोग गम्भीर समस्या बन गया है।

    राज्यपाल आचार्य देवव्रत दीनबंधु फाउंडेशन द्वारा 14 फरवरी, 2019 को जम्मू-कश्मीर में पुलवामा आतंकवादी हमले में शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित एक समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पूरा देश एक जुट हो कर उन लोगों को जवाब दे रहा है, जो भारत की एकता और अखण्डता के लिए घातक है।

    उन्होंने कहा कि वैज्ञानिकों के शोध के अनुसार पंजाब तथा हरियाणा में जल स्तर हर वर्ष चार फुट तक कम हो रहा है और अगर स्थिति यही रही तो कुछ वर्षों में आने वाली पीढ़ियों के लिए बंजर एवं जलविहीन भूमि ही रह जाएगी। उन्होंने कहा कि इसका एक मात्र समाधान प्राकृतिक खेती है जिसके द्वारा भू-जल स्तर को पुनर्जीवित किया जा सकता है और हमें जैविक व स्वास्थ्यवर्धक उत्पाद प्राप्त होंगे।

    आचार्य देवव्रत ने कहा कि हिमाचल प्रदेश सरकार ने पहले ही प्राकृतिक खेती को अपना लिया है तथा किसानों को मुफ्त प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पहले वर्ष में तीन हजार से अधिक किसानों ने इस प्रणाली को अपना लिया है और इस वर्ष के लिए 50 हजार किसानों को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि विभिन्न राज्यों में 40 लाख से अधिक किसानों ने प्राकृतिक खेती को अपना लिया है।

    उन्होंने युवाओं को नशीले पदार्थों से दूर रहने और अपनी ऊर्जा को रचनात्मक कार्यों में लगाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि युवा राष्ट्र की भविष्य है और देश के विकास और प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं परन्तु यह चिंता का विषय है कि वे नशे के शिकार हो रहे है।

    आचार्य देवव्रत ने कहा कि लोगों को एक समृद्ध, विकसित और शान्तिपूर्ण समाज के निर्माण के लिए एकजुट होकर सामाजिक बुराइयों के विरूद्ध लड़ना होगा। उन्होंने कहा कि बच्चों में नैतिक मूल्यों और जिम्मेदारी की भावना जागृत करने में शिक्षकों और अभिभावकों की शुरू से ही महत्वपूर्ण भूमिका रही है, जिससे उन्हें सामाजिक बुराइयों से बचाया जा सके।

    सफीदों विधानसभा क्षेत्र के विधायक जस्वीर देशवाल और दीनबंधु फाउंडेशन के अध्यक्ष सुरेन्द्र ढल भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

    इससे पूर्व, राज्यपाल ने मिनर्वा पब्लिक स्कूल कैलराम के परिसर में नशामुक्ति और प्राकृतिक खेती पर आयोजित समारोह की अध्यक्षता की। इस अवसर पर उन्होंने लोगों को अपनी मानसिकता बदल कर अपनी बेटियों को बेहतर शिक्षा के समान अवसर देने का आग्रह किया ताकि वे राष्ट्र की प्रगति व विकास में अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर सके। उन्होंने कहा कि आज लड़कियां सभी क्षेत्रों में लड़कों से बेहतर प्रदर्शन कर देश को गौरवान्वित कर रही हैं  

    -0-

    Read More
  • मुख्यमंत्री ने किया सात नागरिक केंद्रित सेवाओं का शुभारंभ
     
          मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा नागरिक सेवाओं के वितरण के लिए एकीकृत पोर्टल ई-डिस्ट्रिक परियोजना के अंतर्गत शिमला नगर निगम की सात नागरिक केंद्रित सेवाओं का शुभारंभ किया। शुरू की गई ऑनलाईन सेवाओं में बिजली, पानी बिल भुगतान, संपत्ति कर भुगतान, पानी व सीवरेज कनेक्शन के लिए आवेदन, बिजली के एनओसी के लिए आवेदन, कैनोपी के लिए आवेदन और मलबे की डम्पिंग की अनुमति के लिए आवेदन सेवाएं शामिल हैं।
          इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सात सेवाओं के शुभारंभ के साथ अब कुल 59 सेवाओं को ई-डिस्ट्रिक पोर्टल पर आरंभ कर दिया गया है और राज्य सरकार वित्त वर्ष 2019-2020 में 136 अन्य सेवाओं को भी आरंभ करेगी। उन्होंने कहा कि इन सेवाओं के शुरू होने से लोगों को ऑनलाईन बिल भुगतान व एन.ओ.सी प्रमाण पत्र प्राप्त करने की सुविधा प्राप्त होगी।  
           मुख्यमंत्री ने राज्य के लोगों को डिजीलॉकर के माध्यम से राशन कार्ड व परिवार नकल रजिस्टर सम्बन्धी दस्तावेजों की उपलब्धता का भी शुभारंभ किया। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग तथा पंचायती राज विभाग के सहयोग से इन सेवाओं को आईटी विभाग द्वारा दस दिनों के भीतर एकीकृत किया गया है। अब राज्य के नागरिक अपना डिजीलॉकर खाता इंटरनेट बेबसाइट  ीजजचरू ध्ध्कपहपसवबामतण्हवअण्पद या मोबाइल फोन पर एंन्ड्रॉइड और आईओएस के लिए ऐप डाउनलोड कर बना सकते हैं। एक बार खाता बन जाने के बाद आधार नंबर लिंक करने के उपरांत डिजीलॉकर पर उपलब्ध सूची से उपरोक्त विभागों का चयन करके दस्तावेज डाउनलोड किए जा सकते हैं। परिवार रजिस्टर में 18,39,865 राशन कार्ड तथा 16,91,275 परिवार पंजीकृत हैं जिन्हें डिजीलॉकर पर जारी किया गया है। इस प्रकार प्रदेश के लोग अपने डिजीलॉकर खातों के माध्यम से अपने मोबाइलों और कंप्यूटरों पर अपने परिवार के राशन कार्ड और परिवार रजिस्टर की प्रतियां डाउनलोड कर सकते हैं।
          मुख्यमंत्री ने भी डिजीलॉकर के माध्यम से अपना राशन कार्ड और परिवार रजिस्टर डाउनलोड किया। उन्होंने विभागों के प्रयासों की सराहना की और प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि नागरिक इन सेवाओं से लाभान्वित होंगे।  
             मुख्यमंत्री ने मोबाइल ऑपरेटरों की निजी एपीएन सेवाओं का उपयोग करके हिमाचल प्रदेश राज्य विस्तृत क्षेत्र नेटवर्क (हिमस्वान) का डोंगल भी लॉन्च किया। एक  निजी एपीएन कन्फिगर्ड सिम विभागीय उपभोक्ता को सुरक्षित, समर्पित चैनल का उपयोग करते हुए इंटरनेट कलाउड पास कर सीधे हिमस्वान तक पहुंचाएगा तथा एसडीसी में ई-ऑफिस, एसएपी, विभागीय जैसे इंटरनेट एपलीकेशन उपलब्ध करवाएगा जो ओपन इंटरनेट के माध्यम से उपलब्ध नही है।  
          जय राम ठाकुर ने कहा कि ये सभी सेवाएं राज्य के लोगों को तत्काल और प्रभावी सेवाएं प्रदान करने में सक्षम होंगी।  
           शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, महापौर शिमला नगर निगम कुसुम सदरेट, निदेशक सूचना प्रौद्योगिकी रोहन चंद ठाकुर, निदेशक ग्रामीण विकास राकेश कंवर, नगर निगम आयुक्त शिमला पंकज राय और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
     
     
     
    Read More
  • मुख्यमंत्री ने इलेक्ट्रिक बस को दिखाई हरी झंडी
     
    मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां राज्य विधानसभा परिसर से शिमला शहर के लिए इलेक्ट्रिक बस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।  
    मुख्यमंत्री ने इलेक्ट्रिक बस को हरी झंडी दिखाने के उपरांत मीडिया से बातचीत में कहा कि शिमला शहर में ऐसी अन्य 50 बसें चलाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि इन बसों में आधुनिक उपकरण स्थापित किए गए है और यह बसें प्रदूषण रहित होंगी। यह शिमला शहर के समृद्ध और स्वच्छ वातावरण की रक्षा के लिए एक कारगर कदम सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कि यह बस यात्रियों को प्रदूषण रहित, शोर मुक्त और आरामदायक यात्रा का आनंद देगी।
    परिवहन मंत्री गोविंद ठाकुर, मुख्य सचिव बी.के.अग्रवाल, मुख्य सचिव परिवहन जे.सी.शर्मा, अतिरिक्त मुख्य सचिव संजय कुंडू, एमडी एचआरटीसी डॉ. संदीप भटनागर सहित अन्य अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।
     
    Read More
  • मुख्यमंत्री ने गुसान में गायत्री चेतना केन्द्र का किया भूमि पूजन
     
    मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां मेहली के नजदीक गुसान गांव में गायत्री चेतना केन्द्र का ‘भूमि पूजन’ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि गायत्री परिवार सामाजिक मूल्यों व परम्पराओं को आगे बढ़ाने में सराहनीय कार्य कर रहा है।
    उन्होंने कहा कि कड़ी प्रतिस्पर्धा और भौतिकतावादी वर्तमान युग में नैतिक मूल्य और परम्पराएं तेज गति से क्षीण हो रही है। उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार जैसी संस्था सदियों पुरानी परम्पराओं और मूल्यों को बनाए रखने में महत्वपूर्ण योगदान प्रदान कर रही है, ताकि भारत एक बार फिर ‘विश्व गुरू’ बन सके। उन्होंने कहा कि केवल वही समाज उन्नति करते हैं जो अपनी संस्कृति और परम्पराओं का सम्मान करते हैं।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि यह केन्द्र समाज में समृद्ध परम्पराओं व मूल्यों को विकसित करने में सहायक होगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश की समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर को संजोए रखने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने संस्कृत को प्रदेश में ‘दूसरी राजभाषा’ का दर्जा देने का निर्णय लिया है।
    जय राम ठाकुर ने गायत्री परिवार के गायत्री चेतना केन्द्र को शीघ्रातिशीघ्र क्रियाशील करने के लिए राज्य सरकार की ओर से हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया।
    गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ. प्रणव पांडिया ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि गायत्री परिवार एक गैर राजनीतिक संगठन है जो विश्व शांति और भाईचारे के लिए काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार आने वाली पीढ़ियों के लिए इस महान राष्ट्र की समृद्ध परम्पराओं, संस्कृति और मूल्यों का संरक्षण सुनिश्चित बना रहा है।
    नगर निगम की महापौर कुसुम सदरेट, अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, हिमाचल गायत्री परिवार के प्रमुख वी.के. भटनागर, उपायुक्त अमित कश्यप, पुलिस अधीक्षक शिमला ओमापति जमवाल व अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।
     
     
    Read More
  • कौशल विकास निगम के निदेशक मण्डल की पांचवीं बैठक आयोजित
     
    प्रदेश सरकार विभिन्न कौशल विकास कार्यक्रमों कार्यान्वयन सुनिश्चित बनाने के लिए विभिन्न विभागों के बीच बेहतर समन्वय स्थापित करने के लिए एक कमेटी गठित करेगी। यह निर्णय मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में गत सांय आयोजित हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम के निदेशक मण्डल की पांचवीं बैठक में लिया गया। 
    मुख्यमंत्री ने कहा कि कौशल विकास प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का मुख्य फलैगशिप कार्यक्रम है और प्रदेश सरकार भी राज्य के युवाओं का कौशल विकास सुनिश्चित बनाने के लिए वचनबद्ध है ताकि उन्हें उद्योगों के मांग के अनुरूप तैयार किया जा सके। उन्होंने कहा कि हि.प्र. कौशल विकास परियोजना के अन्तर्गत वर्ष 2018-2023 के बीच 65,000 से अधिक युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 2880 से अधिक युवाओं को व्यावसायिक स्ट्रीम में प्रशिक्षण दिया गया हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 12 राजकीय महाविद्यालयों में व्यावसायिक स्नातक कार्यक्रम आरम्भ किया गया है। 
    जय राम ठाकुर ने कहा कि 10 महाविद्यालयों में स्नातक के अन्तिम वर्ष के छात्रों के लिए ग्रेजुवेट एडऑन प्रोग्राम आरम्भ किया गया है, जिसके अन्तर्गत 560 युवाओं का नामांकन किया गया है। उन्होंने कहा कि सभी प्रशिक्षण कार्यक्रम रोजगारन्मुखी हो, इस पर जोर दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित बनाया जा रहा है कि प्रशिक्षुओं को उनके प्रशिक्षण पूर्ण होने के पश्चात जल्द से जल्द रोजगार उपलब्ध हो। 
    बैठक में यह भी निर्णय लिया गया है कि जिला समन्वयकां के पदों को प्राथमिकता के आधार पर भरा जाए ताकि निगम के कार्य का संचालन सही प्रकार से किया जा सके। बैठक में यह भी बताया गया कि निगम की राज्य फलैक्सी समझौता ज्ञापन के तहत औद्योगिक ईकाइयों जैसे सैक्टर स्किल कांउसिल के तहत 4000 युवाओं को प्रशिक्षण देने की योजना है। 
    कौशल विकास निगम के प्रबन्ध निदेशक रोहन चन्द ठाकुर ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया।
    शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह, मुख्य सचिव बी.के. अग्रवाल, अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं मुख्य मंत्री के प्रधान सचिव डॉ. श्रीकान्त बाल्दी, अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग मनोज कुमार, प्रधान सचिव आबकारी एवं काराधान जे.सी. शर्मा, राज्य समन्वयक नवीन शर्मा, सचिव समान्य प्रशासन डॉ. आर. एन. बत्ता, सचिव वित्त अक्षय सूद, सचिव वित्त के.के. पन्त, श्रम आयुक्त एस.एस. गुलेरिया, राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के वरिष्ठ प्रमुख जय कान्त सिंह व अन्य इस अवसर पर उपस्थित थे।
                  
    Read More
Latest Video FootageView Allनवीनतम वीडियो फुटेजसभी देखें
Departments Productions View All विभाग प्रोडक्शंससभी देखें
Latest News PhotographsView Allनवीनतम समाचार फोटोसभी देखें
Digital Photo LibraryView All डिजिटल फोटो गैलरीसभी देखें
You Are Visitor No.हमारी वेबसाइट में कुल आगंतुकों 7856322

Nodal Officer: UC Kaundal, Dy. Director (Tech), +919816638550, uttamkaundal@gmail.com

Copyright ©Department of Information & Public Relations, Himachal Pradesh.
Best Viewed In Mozilla Firefox