महामहिम राज्यपाल

नामः                                     आचार्य देवव्रत

पिता का नामः                       श्री लहरी सिंह

जन्मः                                    18 जनवरी, 1959

पता:                                       गुरुकुल कुरुक्षेत्र, नजदीक कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी थर्ड गेट, कैथल रोड, कुरुक्षेत्र (हरियाणा) 136119

-मेलः                                   gurukul_kkr@yahoo.com

शैक्षिक योग्यताएंॅः

विद्यावाचस्पति                               दयानन्द ब्राह्म महाविद्यालय, हिसार                              1978

विद्याभास्कर (बी..)                       गुरुकुल महाविद्यालय ज्वालापुर हरिद्वार                       1982

स्नातकोत्तर (हिन्दी)                        पंजाब विश्वविद्यालय, चण्डीगढ़                                       1984

बी.एड                                              महर्षि दयानन्द विश्वविद्यालय, रोहतक                            1991

स्नातकोत्तर (इतिहास)                    कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र                                        1996

योग-विज्ञान में डिप्लोमा                  कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र                                        2000

डाॅक्टर आॅफ नेचरोपैथी          आॅल इण्डिया कौंसिल फाॅर नेचरोपैथी, नई दिल्ली                 2002
 एण्ड यौगिक साईंस           

अनुभवः 34 वर्षांे तक सम्प्रति गुरुकुल में प्राचार्य के पद पर कार्यरत रहे।

विशेष रुचियाॅंः

              राष्ट्रवादी चिन्तन एवं भारतीय संस्कृति को जन मानस तक पहुंचाना।

              वैदिक मूल्यों पर व्याख्यान।

              समाचार-पत्रों एवं पत्रिकाओं के लिए लेख लिखना।

              युवाओं को सामाजिक एवं नैतिक मूल्यों के प्रति जागरुक करना।

              गौ-नस्ल सुधार जैविक कृषि हेतु निःशुल्क शिविर लगाना।

              भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी केबेटी बचाओ-पढ़ाओअभियान से प्रभावित होकर अप्रैल, 2015 में चमन वाटिका अन्तर्राष्ट्रीय कन्या गुरुकुल की अम्बाला में स्थापना की।

              आयुर्वेद, प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग का प्रचार-प्रसार करना।

              वृक्षारोपण एवं यज्ञ चिकित्सा द्वारा प्रदूषण मुक्त समाज रचना।

              पुस्तक लेखन।

भारतीय संस्कृत एवं वेद प्रचार हेतु निम्न देशों में यात्राएंः

              स्विट्जरलैण्ड, नीदरलैण्ड, हालैण्ड, फ्रांस, इंग्लैण्ड, इटली, वैटिकन सिटी, नेपाल भूटान आदि।

सम्मान एवं पुरस्कारः

              इण्डिया इन्टरनेशनल फ्रेंडशिप सोसाइटी, नई दिल्ली द्वारा आयोजित कार्यक्रम में 22 अगस्त 2003 को भारत ज्योति अवार्ड’, ‘सर्टिफिकेट आॅफ एक्सीलैन्सअवार्ड एवंश्रीमती सरला चोपड़ाअवार्ड से सम्मानित।

              समाज में महत्वपूर्ण योगदान के लिए अमेरिकन बायोग्राफिकल इंस्टीच्यूट द्वारा 21 अगस्त 2002 को अमेरिकन मेडल आॅफ आॅनर से सम्मानित

              ग्रामीण भारत की गैर-सरकारी संस्थाओं का परिसंघ (सी.एन.आर.आई) नई दिल्ली द्वारा 19 अप्रैल 2005 को सर्टिफिकेट आॅफ आनर इन सर्विस आॅफ रुरल इण्यिा से सम्मानित।

              समाज की विशिष्ट सेवाओं के लिए वर्ष 2009 मेंजनहित शिक्षक श्री अवार्डसे सम्मानित।

              ऋषि पब्लिक वेल्फेयर ट्रस्ट कुरुक्षेत्र द्वारा 8 मई 2007 को विशिष्ट समाज सेवाओं के लिएसमाज सेवा सम्मानसे सम्मानित

              गुरुकुल ऐच्छिक संस्था की प्रगति के लिए हिमोत्कर्ष साहित्य, संस्कृति एवं जनकल्याण परिषद् उना द्वारा 12 फरवरी 2006 को मुख्यमंत्री द्वारा हिमोत्कर्ष राष्ट्रीय एकात्मकतापुरस्कार से सम्मानित

              परोपकारिणी सभा अजमेर द्वाराआर्य संस्था व्यवस्थापक सम्मानसे सम्मानित।

              30 नवम्बर 2007 को प्राचीन एवं नैतिक मूल्यों के संरक्षण हेतु प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित

              परोपकारिणी सभा अजमेर द्वाराआर्य संस्था व्यवस्थापक सम्मानसे सम्मानित

              20 अगस्त 2011 को अक्षय उर्जा सम्मान से सम्मानित।

              सार्वदेशिक आर्य वीर दल द्वाराविशिष्ट सेवा सम्मान 2013’ से अलंकृत।

              आॅल इन्ट्लैक्चुयल परिसंघ एव शोध केंद्र कुरुक्षेत्र द्वाराविद्वान रत्नसे अगस्त 2013 को सम्मानित।

              आर्य समाज आनन्द नगर, राजपुरा पंजाब द्वारा योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा के प्रोत्साहन हेतु शिविर लगाने के लिए 12 अगस्त 2001 को प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित।

              सांइस ओलम्प्यिाड फांउडेशन द्वारा विज्ञान एवं गणित विषयों को लोकप्रिय बनाने के सतत् प्रयास के लिए प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित।

              डी..वी. कालेज मैनेजिंग कमेटी, नई दिल्ली द्वारा वैदिक मूल्यों के विकास के लिए 3 अप्रैल 2012 को प्रशस्ति पत्र से सम्मानित।

              आर्य समाज रादौर (यमुनानगर) द्वारा वैदिक मूल्यों के विकास के लिए प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित।

              समाज सुधारक के रूप में प्रशंसनीय योगदान के लिए आर्य केन्द्रीय सभा, करनाल द्वाराविशिष्ट सम्मान 2010’ से सम्मानित।

              मूडी इन्टरनेशनल सर्टिफिकेशन लिमिटेड द्वारा क्वालिटी मैनेजमेन्ट के लिए प्रशस्ति पत्र से सम्मानित।

              रेडक्राॅस सोसाइटी कुरुक्षेत्र द्वारा रक्त दान शिविर लगाने के लिए प्रशस्ति पत्र से सम्मानित।

              कुरुक्षेत्र के बाढ़ पीडितों को सामयिक सहायता पहुॅंचाने के लिए प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित।

सदस्यताएंः

              संस्थापकः चमनवाटिका अन्तर्राष्ट्रीय कन्या गुरुकुल, अम्बाला।

              हरियाणा सरकार द्वारा चैधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के सदस्य नियुक्त।

              निदेशक, स्वामी श्रद्वानन्द योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र कुरुक्षेत्र।

              अधिकारी, आर्य विद्या परिषद, हरियाणा।

              पूर्व मानद सदस्य, हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद्, चण्डीगढ़।

              सदस्य, हरियाणा गोशाला संघ, रोहतक।

              पूर्व सदस्य, हरियाणा गोसेवा आयोग, चण्डीगढ़।

              सदस्य, महर्षि दयानन्द (.टी.टी) रिसर्च सेन्टर धड़ौली, जींद।

              सदस्य, जवाहर नवोदय विद्यालय सलाहकार समिति निवारसी, कुरुक्षेत्र।

              संरक्षक सदस्य, अखिल भारतीय गुरुकुल खेलकूद प्रतियोगिता।

              सचिव, श्री गोपाल कृष्ण गोशाला, गुरुकुल कुरुक्षेत्र

साहित्यक कार्य लेखन एवं सम्पादनः

              प्रधान सम्पादक, मासिक पत्रिकागुरुकुल दर्शन

              स्वास्थ्य का अनमोल मार्गः प्राकृतिक चिकित्सा अंग्रेजी एवं हिन्दी संस्करण

              स्वर्ग की सीढि़याॅं (पंचमहायज्ञ)

              वाल्मीकि का राम- सवाद अनुवादक

              गुरुकुल कुरुक्षेत्र का गौरवशाली इतिहास

              संरक्षकगुरुकुल की वार्षिक स्मारिका

लक्ष्य एवं उद्देश्यः

       वैदिक संस्कृत एवं परम्परा के प्राचीन गौरव को प्रतिष्ठित एवं सम्वर्द्धित करना और मानव मात्र में वैज्ञानिक समझ को विकसित करना

You Are Visitor No.हमारी वेबसाइट में कुल आगंतुकों 4989163